1 श्नोदम्‌

&‰ विचाश्नौ पुस्तक दै, वेद का पटूनां पटना नौर सनन सुनाना सव श्राय का परम धमं है

ष्नन्द्ससचार

[न

भाष्यम्‌--जिन वेदों की मरिमा'खव बडे चपि, मुनि श्रौर योगी गाते चाये रटविदंशी विद्धान्‌ जिनका श्रधं खोजने मेँ लग वे अवत्तक संस्कृतमें होने कै कारण चड़ कठिन थे ! ऋम्वद्‌, चनौर यजुर्वेद नौर सामवेद का रथं तो भाषा हो चुक्रा है परन्तु ्रथर्व- वेद का चरथं अभी तक नागरी भाषां नदीं धा, इष महानुटि के पृरा करने के भिये प्रयाग निवासी पे० ेपकरणदास त्रिवेदी ने उत्साह किया वे भाष्य के नागरी ( हिन्दी) शरोर संस्कृत में ये निघण्टु, निरुक्त, व्याकरणादि सत्य शालो के परमाण से बड़ परिश्रम के साथ वनाकर प्रकाशित कर रहर , भाष्यका कम इत प्रकार है १--सूक्त के देवता, उपदेश, सस्वर मूल मन्त २- सस्वर पदपाठ, ४- मन्त्रों के शब्दों को कोष्ठ मे देकर सान्वय मापार्थं, ५-मावार्थं, ६-श्राव- श्यक टिप्पणी, पाठान्तर, श्रनुरूप पाठादि. 9-प्रत्येक प्रठ में लाइन देकर सन्देह निरत्ति के ल्यि णन्दो भ्नोर द्विया की व्याकरण निरुक्तादि प्रमाणो से सिद्धि 1 इस वद मेँ २० छोटे बड़े कडि हे, खक एक कांड का भवपृणं सं्तिप्र खी पुरुषों के समभने पोन्य अरति सरल हिन्दी श्नोर संसृत भाष्य श्रल्प मृल्य मे छक्र प्राक के पास पहुंचता दै वेदप्रेमी श्रीमान्‌ राजे, महाराजे, सेट, साहकार, विद्वान्‌ श्रोर स्वं साधारण ली पुरुप स्वाध्याय, पुस्तकालरयो रीर पारितोषिकों कै लिये याप्य मंगावे ओर जगढपिता परमात्मा के पारमाधिक शरीर सांषारिक उपदेश, ब्रह्मविव्या, वैयकविवया, शि्पषिद्या, राजविव्यादि नेक क्रियाश्च का तच जानकर श्रानन्द भोगे नौर धर्मात्मा पुरूपाथीं होकर कीर्तिं पावे छपाई उत्तम श्रौर कान्‌ वदिया रायल श्रडपेजी है

स्थायी ब्रादकौ नाम क्िखाने चालते जन २०) सेकड़ा छु डफर पुस्तक वी० घी० चा नगद्‌ दाम पर पाते हँ ! डाकव्यय हक देते हैँ

काण्ड | २|।३। ४|५| ६|७9 | | & | १०८

मूल्य १।) | ९।-)| शा~) २) ।६॥ =} ३} | २} | | २) |स) खड एए २,०५

1/0 | २२।)। २४।=)

कारड-- १२ छप रहा हे कांड १४ शीघ्र प्रकारित्त होगा

इंवनमन्नाः--घमं धिषा का उपकारी पुस्तक - चारों वेदो के संदी मन्त्र ईर्वर'स्तति स्वस्तिवाचन, शान्तिकर ण, हवनमन्त्र वामदेव्यगान सरन भाषा में शब्दाथं सहित संशोधित विया यल श्रहपेजी ६०, मृद्य ।)॥

खट ध्यांयः--प्रसिद यजुर्वेद श्रध्याय १६ (नमस्ते ख्य मन्यत्र उतो तत इपतरे नमः) ब्रहानिरूपक अथ संसत, मापा थार चयरज्ञी मे बिया रायल श्चठपजौ पृष्ठ १४८ मूर्ध 1)

शुद्रएध्यायः-- मूलमात्र वदिया रायल यउपेजी, धृ्ठ १४ मूल्य )1

देदचियःयै--3दो में विमान, नोक, रल शल निर्माण, व्यापार, खरस्य, तिथि, सभा, च्रचर्यादि का क्ण मृद ^.॥

पता-पं० स्तेमक्ररणदा।सचिवेदी

२० जुन १६१८। ५२ सूकरगज, प्रयाग ( 41212920 |]

१. सूक्त विवरण अधर्ेेद्‌, काण्ड १९॥

सुक़्| सुक्तके प्रथम पद देवता उपदेश {८ +

सत्यं यृददतसु्रं पृथिवी राज्य की र्ता [भुरिक्‌ वरिष्टुप्‌ भादि = नडमा रोद नते श्रत्र | शश्चिश्रादि | राजा श्रौरः प्रजा हषर शादि +

| एमौन्‌ सऽपि तिष्ठ॒ | सी पुरुष श्रादि | परस्पर उक्नति (भुरिक्‌ शिषटुप्‌ रादि

करना ददामीत्येव धरया | वश। वेदवाणी $ | ्रुष्टुप्‌ श्रादि प्रकाश ५८१)| भ्रमेण तपसा सुषए ्रह्मगघी ४५ रो- | प्राज्ञापत्यादुष्टुप्‌ श्रादि कनेकेदोप (२)|भोजश्च तेजश्च सहश्च | तथा तथा | साम्नी षप आदि (२) सैपा भीमा प्रह्मगशव्य तथा तथा विराडा्षी गायेतरीश्चादि | वैरं विरृत्यमाना तथा तथा |श्राुरो गायत्री श्रादि (१) तस्या अननं रत्या तथा तथा |सम्नी पडक्तिश्रादि (९ सपरं वे त्यादनने तथा तथा | प्राजापत्यालेष्टुप्‌ रादि (७)| चश्च प्र वृश्च सं वृश्च तथा तथा | प्राजापत्यावुष्टुप्‌ आदि

१५०९ > मर (3 २-ऊ ववेद कार्ड १२ के मन्त्र अन्यवेदी मे सम्पूणं वा कुछ मेद्‌ से॥

मन्त्रस्था मन्न ( काण्ड १६) "मन्त्र भ्रष्याय, उत्तराच सुक्त, मन्न | खकः मन्त (इव्दि" | पुनस्त्वादिखयास्द्रा |२।६ १२। ४४ | |ये श्रग्निःक्रव्यात्‌ |२।७ १०। १६।१० | फरव्यादमम्निं भ्र २।८ १०। १६18 | ३५ १६ | पर सृतयो श्रु २।२१ १०।१८1 |२५।७ | इमेजीवावि २।२१९ . |१०।१८।३ } १। ११७। २५ | मं जीवेभ्यः परि |२।२३ १०।१८।४ |२५।१५ | श्रा रोदतायुजञरसं .|२।२ | १०।१८। | यथादान्ययुपूव २।२५ १०। १८।५ & | श्रषमन्वती रीयते |२। २६ १०।५३।८ | ३५। १० १० | सृत्योःपदं योपयन्त | २। ३० १०।१८।२

११ | प्मानारीरविधवाः |२।३१ ` |१०।१८।७

९०९ [४०४ |] दाद काण्डम्‌ ९२ 0 )

ओर्‌

प्रथमोऽनुवाकः

त्तम्‌ [ पृथिवी त्तस |

१--६२॥ पृथिवी देवता १, ५५, भुरिक्‌ भिष्टुप्‌ २, ३, ४, २६, ३१,

१६२ श्रिष्टुप्‌ ; ५, ४४,४५ निचृज्‌जगती ¦ जगती; प्रस्तारपङ्क्तिः पटपरा विराडष्डिः ; & निचत्‌ त्रिष्टुप्‌ ; १०,३८ षटुपदा जगती ; ११ श्रतिः श्री ; १२ १३, १५, २५, २७ शक्वरी ; १४, १७ मदादृहती ; १६, २१ साम्नी नि्ट्प्‌; १८ निचृदतिशक्वरी १६ उरोबृहती ; २०, २६, २८, ३२, द, ३६, ४०, ५०, ५३, ५७, ५६, ५९६) ६३ श्रुष्टुप्‌ ; २२ खराडतिज्ञगती ; २६ विराडतिजगती ! २४ पञ्चपदा सुरिज्‌जगती ; ३० विराड्‌ गायनी ; ३२ तिष्व ज्योतिष्मती ; ३५, ५२ अतिजगती ; ३६अर्पी पदकः ४१, ४६ विराद्‌ श्री) ४२ शुरिजचुष्टुप्‌ ¦ ४३ चिराडास्तारपदक्तिः ; ४७, ५१ स्वराट्‌ शक्य; ४६ प्राह युष्णिष्‌ ; ४६५ ५७ जगती ; ५८ निचदूषृटती चन्दः

सज्यरतोपदेश्वः-- रज्य की र्ता फा उपदेश

सत्यं वहदतमयं दीक्षा तपो ब्रह्म यक्नः पृथिवीं धारयन्ति, सा नौ भतस्य भध्यश्य पल्न्यरं लोक पृं यिवी नः कणोत ॥९॥ सत्य्‌ वहत्‌ तय्‌ उग्रस्‌ ।. दीक्षा तपः! अह्न यश्वः पृथिवीम्‌ धार्यन्ति षा। नः। भूतस्थं 1 भव्यं , स्य। पल्ली उरम्‌ लोकम्‌ पथिवी ।.नः.। कणोत 1 .१॥}

( >६८० ) -अयर्दवेदभाष्यै . इ० १९. ४७४ |

भाषार्थ-( दत्‌ ) यदा रा ( सद्यम्‌.) सत्य कर्म, (-उच्रम्‌ }) उग्र ( ऋतम्‌ ) सत्यज्ञान, ( दीक्ता ) दीप्ता [ श्रास्मनिग्रह ], ( अ्रह्म) ब्रह्मचयं [ वेदाध्ययन, चीरयनिग्रह रूप ] ( तपः ) तप [ बत धारण ] शौर ( यज्ञः ) यश्च [ दैवषूजा, सत्संग श्रौर दान ] ( पृथिवीम्‌ ) पृथिवी को ( धारयन्ति) धारण करते है (नः ) हमारे ( भूतस्य } वीते हये श्रौर ( भव्यस्य ) होनेवाले [ पदार्थं ] की ( पत्ती) पालन करने बन्ली ( सा परथिवी ) वह पृथिवो (उरम्‌ ) चौड़ा { ल्ेक्रम्‌ } स्थान (नः ) हमरे लिये ( छणोतु ) करे १॥

भावाय-सद्यकर्मी, सत्यज्ञानी, जितेन्द्रिय, दष्वर नीर विद्धानौ से प्रीति करने वाले चतुर पुख्ष पृथिवी पर उश्नति करते 1 यह नियम भूत रौर भविष्यत्‌ के लिये समन दै॥ १॥

दख सक्त का नाम “पृथिवी सूकर" है शसम वणित धर्म रौर नीति के पालने

से राजा भजा रौर प्रत्येक गरहश्थ श्रौर मदुष्य मान्न का कल्याण देत्ता दै

इस युक्त का संसत श्रौर भाषः मे सविस्तार साप्य दिक रागत” नामक भीयुत पं० शरी पद द्‌मेष्र सातघज्ञेकर छुखप्रकाश, श्रनाः कली लाषहिर क्का घनाया वडा उत्तम है ! पाठकचन्द्‌ उसे भी पठ, मै उनका बहुत धन्यवाद करता

शसं वधं बध्यते सनवान यस्यां उद्धतः यवतः ससं वहु नानावीर्या जव॑चीर्या विनतं पथिकौ न: मयतुगं राध्यतां नः२

१-( सत्यम्‌ ) यथा्थंकमं ( बृहत्‌ ) महत्‌ ( ऋतम्‌ ) यथा्थ्ञानम्‌ { उथ्रम्‌ ) प्रचरुडम्‌ ( दीक्ता ) अर०८।५। १५ आत्मनिय्यहः (तपः) तप- चरणम्‌ बतधारणम्‌ ब्रह्म ) ब्रह्मचर्यम्‌ बेदाध्ययनवीयंनिग्रहादिरूपनतम्‌ ( यज्ञः ) देव एरजासत्ंगानानि ( परथिवीम्‌ ) च० १। २₹। पर्थेः षिवन्षवन्‌- - ष्वनः सस्भरलारणं ! १। १५० भथ ख्यातौ विस्तारे च--षिवम्‌ खम्भस।- र्णं विस्वाङ्‌ ङीष्‌ यःपर्थंति खच जगद्धिस्वृाति पृथिवी ...परमेश्वग इतिश्री द्यानन्द्रते सत्याथंप्रकाशे प्रथर्नात्‌ पएथिवी-निरु० १। १३ भूमिः राज्यम्‌ ( श्रारयन्ति ) धरन्ति (सा). ( नः) अस्माकम्‌ ( भूतस्य ) श्रतीत वस्नः { मञ्यस्य ) मचिष्यत्पदाथंस्य ( पल्ली ) पालयित्री ( उकम्‌ ) विस्तृतम्‌ (लोकम्‌ ) द्शंनीयं स्थानम्‌ ( प्रथिवी ) ( नः) भअर्मभ्यम्‌ ( णोत.) कपोत

०९ [४७४ ] ` द्वादशं काणडस्‌ ९२ ( २,६६१ )

ख्म्‌-वाधम्‌ वेघ्य॒तः [मध्यतः] मानवानाम्‌ यस्याः 1 उत्‌-वतः अ॒-वतः। समम्‌ बह नान।-वीर्याः; रष॑धौः या। विभति। पथिवौ नः ययताम्‌ राध्यंतास्‌ नः॥२॥ माषार्थ-- मानवानाम्‌ ) मान चाल्लौ वा मननशीलौ के (संबाधम्‌ ! गति रोकने बले व्यवहार फे ( षध्यतः ) मिराती हयी ( यस्याः ) जिल { एथिवी ] के [ मध्य ] ( उद्धतः )-ऊंचे श्रौर ( प्रवतः ) नीषे दश श्चौर ( षु घटत से (सम्रम्‌) सम स्थान दह (शा) जे (नानावीर्याः) शनेकवीर्थ [ षक्ल ] बाली (श्रोयधीः ) श्रोषधिरयो [ श्रत्र.सेाम लता श्रादि ] के ( विभक्ति) रखती है, ( एथिवी ) वद पृथिवी ( नः ) हमारे लिये ( प्रथताम्‌ ) बौड़ी दोव श्नीर ( नः ) हमारे लिये ( राध्यताम्‌ ) स्सिद्धि करे २॥ भावार्थ विचारशील मनुण्य पृथिषी पर ऊचे, नीचे श्रीर सम लाभ मे चिघौ के मिराकर प्रकनश्रादि पद्‌ाथं प्राप्त करके कार्यसिद्धि करते जाते है॥२॥ ( वष्यतः ) शब्द के स्थान पर गवर्नमेन्ट बुकडिपो यस्व के पद्‌ पाठ मे [ मध्यतः ] शब्द्‌ है हम ने अजमेर वैदिक यन््रालय श्रौर सेवकलाल रष्- दास फे संहिता पाट के श्नु सार ( बध्यतः ) पद्‌ मानकर रथं क्षिया है

२--(श्रसंवाधम्‌) श्रस गतिदीप्त्यादनेषु- च्‌ + संज्ञाय भूर तृ६ञि.भ्ारि ०। पा० ३।२।४६। वाध विलोडने खच्‌, खित्वादु मुम्‌ असं गतिं वाधते वः स, श्रसंवाधः। तं गतिनिसेधकं व्यघह्ारम्‌ ( बध्यत: ) वतमाने पृषटू शृदन्‌-

मह्गच्चतृवचच। उ०२ ।२४ बध हिंसायाम्‌-श्रति.शववत्‌, कान्दसो यकारः। हिखन्याः ( मानवानाम्‌ ) ्र०४।२२।५ मनु-श्रण्‌, यद्वा मान वध्रत्ययो , मत्वं मननशीलानां मानवताम्‌ ( यस्याः ) पृथिव्याः ( उद्कतः ) उपसगा च्छुम्बसिं धात्वथं पा०५.। १। ११८। उत्‌-वतिपरत्ययः। प्रवत उद्नो निवबतश्स्यं घतिगंतिक्मां - नि ९०१० २०! उश्नतदेशाः (प्रवतः) पूवत सिद्धिः। प्रणतदेशाः { समम्‌) विषमं स्थानम्‌ ( षडु) ( नानावीर्याः ) श्रनेकवल्ाः ( श्नोषधीः ) १।३०।३ श्रन्नतेमलतादिपदाथान्‌ ( या ) ( विमतिं ) धरति (पृथिवी) (नः) अस्मभ्यम्‌ ( प्रथताम्‌ ) विस्तीर्यताम्‌ ( राध्यताम्‌ ) सिध्यतु (नः) भसमभ्यप्‌ #

( २,६९८२ ) : परयवंवेद्भःष्यै [ ४७४ )

यस्था समुद्र॒ उत विन्धुरापो यस्यास्ते कष्टयैः संबभूवुः यश्यौसिदं जिन्डंति अाण्देजत्‌ सा नौ शुभिः पेयं दधातु - क्यच्‌ समुद्रः उत 1 सिन्धू; आप॑ः यस्यास्‌ 1 अन्न कुष्टय॑ः युस्‌-य॒भूवुः यस्यास्‌ इदस्‌ जिन्व॑ति युत्‌ स्ज॑त्‌ 1 खा। नः भ्रमिः पुवं -पेये दधातु ५३१ साषार्थ-( यस्याम्‌ ) जिख [ भूमि ] पर ( समुद्रः) समुद्र (उत) श्रौर ( क्लिन्धुः ) नदी नौर ( अपः) जलधारायं [ भरने कूप श्रादि ] है, ( यस्याम्‌ ) जिस पर ( छन्नम्‌ ) चन्न श्रोर ( कृष्टयः } सखेतियां ( स'वभूवुः ) उत्पश्च हृ है। ( यस्याम्‌ ) जिल पर ( इदम्‌ ) यह ( प्राणत्‌ ) श्वास लेता हा श्नौर ( एजत्‌ ) चेष्टा करता हआ [ ज्ञगत्‌ ] (जिन्वति ) चलतः है,( सा भूमिः) भूमि (नः) दमे ( पूचैयेये ) श्रेष्ठौ से स्ा योग्य पद पर ( दधातु ) ठदरावे ३॥ लावार्थ-जो मदष्य समुद, नकी, कूप श्रौर बृष्टि के जल तथा श्नन्य

खेती रादि से नौका, यान, कला यन् श्रादिमें अनेक प्रकार उपकार लेते है, वे लब अगत्‌ के आनन्द्‌ देकर भष परदे पतेदहं॥३॥

` [ कन यस्यश्चतखः यदिः पृथिव्या यस्यामन्नं कृष्टयः सेबभूतुः ह~) या विभति बहुधा म्रणदेजत्‌ खा नौ सिर्गोभ्वप्यद्चे द्धौ तु 18 प्स * :# १९. यस्या; चत॑खः ! य॒-दिशः पुथिव्याः यस्याम्‌ अन्न॑स्‌ || 1 भर बि }{~6 = कुष्टयः उख्‌-वमवुः या। बेभति वहु-धा भाण्‌ = | रजत्‌ खा नः श्रूमिः गोषु, अपि अन्नं द्‌ घात ५४

"~ --------------------------~-~--------

३--{ यस्याम्‌ ) भूभ्याम्‌ ( सुद्र ) जलौघः ( उत्त ) रपि ( सिम्धुः) नदीं ( श्चापः ) जलछाराः ( श्रन्नम्‌ ) भोज्यम्‌ ( कृष्टयः ) सस्यभूमयः ( संब- मूषुः ) उत्पन्ना बभूवुः ( यस्याम्‌ ) ( दम्‌ ) दश्यमानम्‌ (जिन्वति ) गच्छुति- निघ०२। १४ ( प्राणएत्‌ ) श्वास छचंत्‌ ( एजत्‌ ) चेष्टायमानं जगच्‌ ( खा ) ( जः ) श्रस्मान्‌ ( भूभिः) परथिवी ( पूवपेये ) अचो थत्‌ पा० ३।१। 6७ [पा रखणे- यत्‌ $विं पा० ६1 ६५ चात दत्वम्‌ पूवैः धेण्ठे रक्धितु येष्ये पदे ( दूरधाठु ) स्थापयतु

[1

म्०९ [४७४ ] द्वादशं काण्डम्‌ -॥. ९२ ( २,६८३ )

भाषार्थ-( यस्याः पृथिव्याः) जिस परथिवी फी ( चतत ) चारे ( दिशः) बङी दिशाय है, ( यस्याम्‌ ) जिख मे ( श्र्नम्‌ ) चत शरीर ( कृष्टयः ) सेनि ( संबभूवुः ) उत्पन्न हयी है। (या) जे ( वहुधा) अनेकं प्रकार से { भारत्‌ ) श्वास जेते हये श्रौर { पजत्‌ ) चेष्टा करते हये [जगत्‌ ] के ( विमतिं ) पोषती दै. ( सा भूमिः ) वह भूमि (नः) हमे (गेषु) गौश्चोमे (श्चपि) श्नौरभी (श्रमे) भन्नमे (दधातु) रक्वे॥४॥ ` ~

भावार्थ मद्य सव श्रर दष्ट पैल्ञाकर अन्न श्रादि पदाथ धाप्त करफे सव प्राणि्यौ की र्ता करते है, वे इस भूमि पर गौ, वै, श्रव प्रादि श्नोर अन्नश्रादि पदार्थौ से परिपृणं रहने है ४॥

यस्य॒ कै पूर्वजना भिचद्किरे यस्याँ दे वा श्सु'रानभ्यव॑तंयन्‌। गवुरमश्वानं वयसश्च विष्ठा भगं. वचः पुथिवी नें दधातु॥\\ यस्यास्‌ एवै पूव्‌ -जनाः वि-च्षिरे यस्याम्‌ दे वाः अजु"राम्‌ अभि-खवंर्तयत्‌ गवाम्‌ अश्वानाम्‌ वय॑सः वि-स्था भगस्‌ वचः पुथिवौ नः। दुघातु ॥\॥

भाषार्थ-( यस्याम्‌ ) जिस [ पृथिवी ] पर (पूवं) पृवंकालमें ( पूजना; ) पूर्वजौ ने ( विचक्रिरे ) वकर कतव्य किये है, ( यस्याम्‌) जिस पर (देवाः) देवताश्रौ [ विज्यी जनौ] ने (श्रञ्ुरान्‌) श्रसुगं | दुष्य ] के ( श्रभ्यवत॑यन्‌ ) हराया है (गवाम्‌ ) गौञ्मौ, ( अश्वानाम्‌ )

४--( यस्याः ) ( चत्तख्लः ) ( प्रदिशः). महादिशाः ( पृथिन्याः ) भूमेः ( या ) (विमति) पोषृयति ( बहधा ) श्रनेकग्रकारेण ( प्रांणत्‌ ) श्वासं कवत्‌ ( एजत्‌ ) चेष्टाथमानं जगत्‌ ( खा ) ( नः) श्रस्मान्‌ ( भूभिः ) ( गोषु ) धेच { रपि ) ( रके ) ( दधातु ) धरतु श्रस्यत्‌ पृषवत्‌-म०३॥

५--{ यस्याम्‌ ) पृथिव्याम्‌ ( पूर्वे ) पूर्वस्मिन्‌ काले ( पूंजनाः ) पूवज; पुरुषाः ( विचक्रिरे ) विशेषेण कर्ैव्यानि तवन्तः (यस्याम्‌ } (देवाः) विजिगीः पवः ( श्रष्ुणन्‌ ) दुष्टान्‌ (श्रभ्यवतंयन्‌ ) श्रमिभूतवस्तः पराजित्त्न्तः (गवा- म्‌) धेनूनाम्‌ (अश्वानाम्‌ ) घोटकानाम्‌ ( षयसः) भजस्य-निघ०२ 9 (च)

(-२,६८५ ) अथववेदभास्पे ०९ [ ४०७४ )

अश्वौ ( ) श्नौर ( वयसः ) श्रघ्न की ( विष्ठा ) चौकी [ ठिकाना }, ( पृथिवी) बह पथो (नः) दंव को (भगम्‌) पेऽत्रयं मौर (वचः) तेज (दधतु) देवे ॥५॥

भावार्थ लिख प्रकार पूवज ने षव्र का हटाकर कतव्य कूरो पेध्रषं प्राया है, उखी प्रक्रार मद्य पुरूषाथं करकं पेश्वर्यवान्‌ श्नौरः प्रतापवान्‌ शोषं ॥५॥ विश्वंभरा व॑सुधानीं म्रतिष्ठा हिर॑रयवक्षा जग॑ता निवेशनी वैश्वनर बिधत श्मिरश्चिभिन्द्रषना द्रविणे ने दचातुद. विश्व म्‌-भरा वसु-धानीं युति-स्या! हिरंख्य-वक्षाः। जग॑तः। निवेशनी वै श्वानरम्‌ विधी भूभिः! यशचिस्‌ इन्द्र ऋषभा द्रविरी नः दधात £

भाषायं-( विश्वम्भरा }) सव के सहारा देने वाक्ली,(चख्धानी ) धनौ की रखने वाली ( प्रतिष्ठा) चट्‌ धार { हिरणयवक्ताः ) खवणं ती मेँ रसने वाली, ( जगतः) चलने वाले [ उद्योगी ] की ( निवेशनी ) छख देने वाली, ( वैश्वानरम्‌ ) सव नरो के हितकारी ( अरधिम्‌ ) ्रश्चि [ समान परतापी पनु ष्य ] की ( विश्रती ) णेषण करनेवाली, ( इन्द्रत्षमा ) इन्द्र [ परमातमा वा मभ्य सूयं ] शधन मानने धाल्ली ( भृमिः) भूमि (दविशे) बक्ष [बा धन ] के बीच (नः) हम को ( दधातु ) रक््खं ६॥

भावःय--जो मद्धष्य उद्योग करते है, वे भूपति दोकर इस वदथा पृथिवी पर सोना चांदी श्रादि की घास्ति-से चत्ती श्चौर धनी होर सुखपाते

( विष्ठा ) विशेपर्थितिस्थानम्‌ ( भगम्‌ ) पेश्व्य॑म्‌ ( वचः ) तेजः ( एथिवो } (सः) श्रस्मभ्यम्‌ (दधातु ) ददातु

६--( विश्वम्भरा ) सन्ञायां अ्॒तृह्रुजि० 1 पा०। ३१२1४६1 विश्व ष्ञ्‌ धारण गेषणयोः- खच्‌, मुम्‌ सकंधात्री ( वञ्धानी ) धनानां ध्रीं (प्रति चा) इडाधारभूना ( हिर्रयचक्ताः ) छवरणाद्रीनि चक्षसि मध्ये यस्याः सां ( जगतः ) जङ्गमस्य गनिमतः पुरुषस्य (निवेशनी ) सुखस्य पवेशयिन्मी दाध्री ( वे्वानरं ) खश्र॑नरदितम्‌ ( विश्चनी ) पोषयन्ती ( सूमिः ) ( श्रग्निम्‌ } श्रग्नि सल्पतःपिनं मनुम्‌ ( इन्दर ऋषभा ) इन्दः परमेश्वरो मञ्ष्यः सूयोवा ऋषभः प्र्रानो यस्याः सा द्विशे) वले--निघर २।& धने-निघण०्। २) १० (नः) अस्मान्‌ ( चृध्राठ) धरतु

भु०९ [४७४] दादश काण्डस्‌ ९२ ( २,१८५ )

यां रक्ष॑नत्यसव॒मा विश्वदानी" दे वा शनि पृथि वीमयंमादम्‌ खा तो सधु, पियं दुंहामथे। उक्षतु वचसा 91 1 यास्‌ रक्ष॑न्ति स्वप्नाः विश्व -दानीस्‌ देवाः शरुनिम्‌। 1 पृथिवीम्‌ अ्मं-मादस्‌ खा न्‌ः। मध्‌। धियस्‌ दुस्‌

अथौ द्रति! उक्लत्‌ वैसा ॥७॥

भाषाथ (याम्‌ ) जिस (विश्वदानीम्‌ ) सब छु देन षाली (भूमिम्‌ ) भूमि [ श्रा्चय स्थान |, ( पृथिवीम्‌ ) एथिवी [ फैले हये धरात्ल | को ( अस्वप्नः ) विना सोते हये (देवाः ) देवता [ विजयौ पर्ष ] ( शरपरम्पदम्‌ ) यिना चूक ( रक्तन्ति ) वचाते है। (सा) षह (नः ) हमको ( भयम्‌ ) भ्रं ( मधु) मघु [ मधुविचय, पूं वितान ( इदम्‌ ) हा करे, ( अथो ) भौर भी ( घर्च॑ला ) तज [ वल पराक्रम ] फे साथ ( उक्ततु ) द्रवे ॥७॥

भावार्थो मदुष्य निरालसती श्रौर श्रममादी होकर भूमि कीरक्षा करते ह.वे इख पृथिवो पर विज्ञानी श्नौर तेजस्वी होते है यार्थ वेऽधिं सलिलमग्र ्राखीद्‌ यां सायाभिरन्वच॑रन्‌ मनी- मिणः यस्या हृद॑यं प्रमे व्यामनतसुत्येनावृंतम्‌मृतं पुथित्याः। सानो श्रुसिस्त्विश बलं राष्ट दधातूत्तमे ॥८॥

- |

या! श्चं अधि। सलिलम्‌ शरग्र प्रारौत्‌ यास्‌

७--( याम्‌ } -- {प (जयामो न्क अगस नि रपतन्ति ) पान्ति (च्रस्वभाः) द्मनिद्राः। जागरूकाः निरः लक्लाः ( विश्वदानीम्‌ ) ७1 ७३1 १९। विश्वानि समघ्रारि दानानि यस्या- स्ताम्‌ ( देवाः ) विजिगोपवः (भूमिम्‌ ) श्रधास्मूतामर ( पृथिवीम्‌ ) विस्तृता वसुधाम्‌ ( अप्रमादम्‌ ) यथा तथा प्रमाद्सयहित्येन ( सा) पृथिवी (नः) भस्म भ्यम्‌ ( मधु ) मधुचिच्याम्‌ पूरनिञानम्‌ ( प्रियम्‌ } प्रीतिकरम्‌ ( दाम्‌} बुगधामू पूरयत ( उक्ततु ) सिञ्चतु वर्धयतु उण उक्ततेठद्धि कम॑णः-- नि० १२ ।६। ( षच॑सा ) तेसा धलेन पराक्षमेण

( २,९८६ ) : आयर्ववेदभाष्ये १० [ ४७४ |

सायाभिः श्नु -अचैरन्‌ स॒नीषिणं; यस्याः हृदं यस्‌ परमे वि-्रौमन्‌ सत्येनं आ-वृंतस्‌ , ्रमतस्‌ पथि- 1 ष्याः सा। नः परूमिः। त्विषिर्‌ 1 बल॑स्‌ रषं दधातु उत्‌-तमे ॥८॥ जाषार्थ-(या) जो [ भूमि ] ( अरण मधि ) जल से भरे स्रुद् के ऊपर (सलिलम्‌ ) जल [ भाष ] (शत्र ) पिले ( आलीत्‌ ) थौ,(मनीपिणः) मननशील कपेग ( मायायिः ) श्रपनी बुद्धियो से (याभ्‌ अन्वचरन्‌) जिस [ भूमि ] के पौचे पीछे चले है [ सेवा करते रहे है ]। यस्यः प्रथिव्याः ) जिस पृथिवो का ( हृदयम्‌ } हृद्य [ भीतस घल्ल ] (परमे ) बहुत बड़े (व्यो. मन्‌ ) विविध रक्षक [ श्राकाश ] मे ( सत्येन") सत्य [ अदिनःशी परमात्मा से ( आदृतम्‌ ) ढक्रा इशा (श्र्तम्‌ ) बिना मरां [ खद्‌ उपजाऊ | दै। (सा

भूमिः) बह मूमि (नः ) हम को ( त्विषिम्‌ } तेज श्रौर ( वलम्‌ ) वल्ल घा सेनां { उत्तमे ) सव से श्रेष्ठ (राष्टे, ) राञ्य के वीच (दधातु) दान क्ररे॥८॥

भावार्थ-खथिके आदि मे जल के मभ्य यह पृथिवी बुदघुदे के समान धी, वह आकाश मे दैश्वर .नियमसेष्दृदो कर अनेक रत्नौ की खानिदहै

पाहिले चिचारवानें के समान सथर सद्भ्य पराक्रम से पृथिवी की सेरा करके बड़े राज्य के भीतरः ठेजस्वी श्र चज्ञौ होकर वदती करे ८॥

~~~ 71 ८-(या ) भूमिः ( अणवे ) जलवति समुद्र (श्रधि) उपरि ( सि

लम्‌ ) उद्कम्‌-निघ० ९1 १२1 बाष्परूपम्‌ ( श्रम्रे) -खुष्ट्यादौ { आसीत्‌ )

( मायाभिः ) परक्ञामिः-निघ० ३1 £ ( अन्वचरन्‌ ) चरन्वगच्छन्‌ सेवितवन्तः

( मनीषिणः ) मेधाचिनः-निध० ३1! १५. ( यस्याः ) (इद्यम्‌ ) न्त्वंलम्‌

(परमे) महति (भ्यामन्‌ }. श्र & 1 १० १८ 1 विविधं रके च्चाक्राश्े (सत्येन)

श्मविनाशिना परमात्मना ( श्रावुतम) चाच्छादिवम ( र्तम्‌ ) मर्शरहितम्‌

उत्पादनंसमर्थम्‌ -( पृथिव्याः ) (खा) (नः) अस्मभ्यम्‌ ( भूमिः ) ( त्विषिम्‌ )

वेजः( बलम्‌ ) लामथ्वंभ्र.( राष्ट ) राज्ये. (द्धानु) ददातु (उत्तमे) सरवे्छष्टे

` ९०१९ [४४ ] ` द्वादशं काश्डम्‌ ९२॥ ( २,६८७ )

4 9 यस्यामापः परिचराः संसानी रहारा श्रपर॑साद्‌ ससन्त + ¢ सानौ भरुजिभं रिधारा पये दुहधामयौ दक्षत वर्सा £ } यस्याम्‌ प्राप परि-वररः सुमानीः शहर इति अमं-मादम्‌ क्षरन्ति रा। नः। श्ुभिः। प्ुरि-धार 1, ४५। पयः दुहाम्‌ प्रथो इति उक्षतु वचसा ८॥

भाषार्थ-( यस्याम्‌ ) जिस भूमि पर ( परिचराः) सेवांशीत्त व्े (समानीः) पक से स्वमाव.वाली (पः) ्राप्त भजा [सल वक्ता लोग] ( अहोराबे ) दिन राति ( श्रप्मादम्‌.) बिना चूक ( तरन्ति ) घहते है ( भूरि- धारा ) नेक धारण शक्तियो वाली (सा भूमिः) वह मूमि (नः) हमको ( पयः ) श्रन्न ( दुहाम्‌ ) दुहा करे, (श्रथ ) नौर भी ( वर्च॑सा ) तेज के साथ ( उक्ततु ) बद्ाषे &

भावार्थ मलयौ का येग्घ है कि समदर्शी परोपकारी भहाताश्रौ फे समान ददचिनत्त होकर परस्पर सेवा करते ह्ये पृथिवी पर श्र्न श्रादि के लाभ से बल वीयं वढ़ृाचं £

# ¢ स्या [4 [3

यास॒ध्रिवनावमिमातां विष्ण॒यस्यां विचक्रमे इन्द्रौ यां चक्र " वि ® घ्नातमनेऽनसिचां शचीपतिः खा नौ प्रूसिविं सूजतां माता य॒च्रायं मे. पयं; ॥९०॥ (९) ' रिव 3 याम्‌ शश्व खसिमातामू्‌ विष्णु :। यस्या॑सू्‌। वि-चक्मे

दन्द्रः। याम्‌ चक्रे श्चात्मने श्चनसिजास्‌ शची-पतिः

&-( यस्याम्‌ भूम्याम्‌ ) ( श्रापः ) श्राप्ताः प्रजाः-दयानन्दभाष्ये, यज्ञु° ६।२७ ( परिचयः ) परिचारकाः। सेवाशीलाः ( ।समानीः ) समानचित्ताः ( अहोरा ) अदर्निशम्‌ (अप्रमादम्‌ ) पमादराहित्येन ( करन्ति ) सश्चलन्वि। वहन्ति( सा) { नः ) असभ्यम्‌ ( भूमिः ) ( भूरिधासं)बहधासायुक्ता ( पयः ) श्रन्नम्‌-निघ० 9 अन्यत्‌ पूर्ववत्‌-म० ७॥ .

( २,६८८६ ) अयर्ववेदभाष्यै ०९ | ४७५४ 1

सा। नः क्सिः! वि कजताम्‌ माता! पचाय। मै पयः ९० (९)

साषा्थ-- याम्‌ ) जिख [ भूमि ] के (श्रष्विनौ ) दिन श्रौर रति ने { श्र॑मिमाताम्‌ ) नापा है, ( यस्याम्‌ ) जिस [ भूमि { पर ( विष्णुः ) वथ ` सयं ने ( विचक्रमे } पाव रक्ला है ( याम्‌ } जिस [ भूमि ] के (शचीपतिः) वाणियो, कमो" श्रौर उुद्धियो मे चतुर { इन्द्रः ) रद्र [ वड़े पेश्व्यं चाले पुरम ¦ ने ( श्राटमने ) श्रपने ज्िये ( अनमित्राम्‌ ) शच, रहित ( चक्रे ) क्रिया है। (साः भूमिः ) वह मुभि;( नः) हमारे [हम सव के] हित के लिये (मे ) सुभ को (पयः) न्न [ वा दुध] (चि) विविध प्रकार ( खृजताम्‌ ) देवे, [ ज्ञेसे ] ( माता } माचा ( पुजाय ) पुलक [ श्रन्न चा दुधदेतीरै]॥ १०॥ | भावार्थ-जिस एथिषवौ को दिन श्रौर सति अपने गुणौ से उपजाऊं

बनाते रै, जिख को सूयं चरपने श्राकषंण, प्रकाश श्रौर दृष्टि रादि कमं से स्थिर रखता दहै, श्रौर 'जिस पर यथार्थवक्ता, यथाथंक्मां चनौर यथा्थ्ञाता पुरुष

विज्ञय पाते है, उस पृथिवी फा उपयोगी वनाकर प्रत्येक मचुभ्य सव का हित करे १०॥

शिरय॑रते पवैता हि मवुन्तोऽरंणयं ते पृथिवि स्योनमस्तु वभ, कुष्णां रोहिंणौं विश्वरूपां भुवां श्ुभि पृथि वीमिन््॑गु्ाश्‌ अज्ञीतोऽतो अक्षतोऽध्यष्ठां पुथिवीसदम्‌ ९९

१०-( याम्‌ ) भूमिम्‌ ( अश्विनौ ) अ० २। २३1 ६। श्रदोरन्नौ-निस ° १२1 ( अमिमाताम्‌ ) माड माने . शब्दे च--लङ.। परिमितां छृनचन्तौ (विष्णुः ) व्यापकः सूः ( यस्याम्‌ ) भूम्याम्‌ ( विचक्रमे ) पादविन्तप रतघान्‌ इन्द्रः ) पेश्वयंवान्‌ जीवः ( याम्‌ ) ( चक्रे ) तवान्‌ ( आत्मने ) स्वहिताय ( श्रनमिन्नाम्‌ ) शञ्चरहिताम्‌ ( शचीपतिः ) अ०३। १० १२। शची = वाक्‌- निघ० १। १९, कमे -२। १, प्रज्ञा-३1 &€ 1 शचीनां वाचां कमं प्रज्ञातां वा पालकः ( सा ) ( नः ) श्रस्मभ्यम्‌ अस्माकं सवेषां हिताय ( भूमिः) (वि) चिघधम्‌ (सृजतम्‌ ) ददातु ( माता ) जननी < पुत्राय ) (भे) सद्यम्‌ ( पयः } श्रन्नम्‌ ) दुग्धम्‌

१०९[ ४७४] द्वादशं काण्डम्‌ ९२॥ ( २,६८८ )

शिरियंः। तै पवेताः। हिम-व॑न्तः। अरणयम्‌ ते पृथिषि स्योनम्‌ शसु वथु कृष्णास राहिणीस्‌ लिश्व-रूपास्‌ भरुवास्‌ भूमिस्‌ पयि वीम इन्द्र -गुप्ताम्‌ |

अरजौतः अहतः अक्ष॑तः शधि शस्थाम्‌ पुथिवौस्‌ पहम्‌ ९९॥

भाषार्थ- ( प्रथिवि ) हे पृथिवी | [ हमारे किये ] (ते ) तेस (गिरयः) पहाड़ियां श्रौर दिमवन्तः ) दिम वज्ञे ( प्ताः ) पहाड़, श्रौर ( ते) तेरा ( अरण्यम्‌ ) बन भी ( स्योनम्‌ ) मनभावना ( श्रस्तु ) रोवे ( चशरुम्‌ ) पोषण करने वाली , ( रृष्णाम्‌ ) जोतने योग्य, ( रोदिणीम्‌ ) उपजाऊ, (वि. शवरूपाम्‌ ) भ्रनेक [ सनै, रुपैले आदि ] रूप वाली, ( वाम्‌ ) इद़ स्वभाव वाती; ( भूमिम्‌ ) श्राक्नय स्थान, ( पृथिवीम्‌ ) फैली हयी, ( इन्दरगुताम्‌ ) दश््ौ [ पेश्वयं शालौ बीर पुरुषो ] से र्ता कियी गर ( पृथिवीम्‌ ) पृथिवी का (श्र- जीतः ) विना जीणे हये, ( शरहतः ) विना मारे गये श्नौर ( अरद्ठतः ) विना धायल हये ( श्रम्‌ ) मै ( श्रधि अर्थम्‌ } श्रधिष्ठाता वना ११॥

भावार्थ मनुय कला, यन्त्र, यान, विमान रादि से दुग॑म्य स्थानौ मे निरविंश्न पहुचफर पृथिवी को उपजाऊ वनाव ११॥

(| [

यत्‌ ते. मध्यं पुथिवि यच्च नभ्य यास्तु उजस्त॒न्वः संबभूवुः। ताञ" ने धेहयसि न॑ः पवस्व साता भरेमिः पचो श्वहं पंयि-

११-(गिस्यः ) चुद्रपवैताः ( ते ) तव ( पताः ) विशालगेलाः ( हिम वन्तः) प्रचुरदिभयुक्ताः ( अरणयम्‌ ) वनम्‌ (ते ) तव ( पृथिचि ) हे भूमे ( स्योनम्‌ ) सुलदम्‌ ( अरस्तु ) ( बभ्रुम्‌ ) रणशीलाम्‌ पोषयिन्नीम्‌ (कृष्णाम्‌ ) क्षंशयोगयाम्‌ ( रोहिणीम्‌ ) रहेश्च उ०। २। ५५ रुह बीजजन्मनि भादुमा. वे च-इनन्‌, डीष्‌ उत्पादनशीलाम्‌ (विश्वरूपाम्‌ ) अनेकरूपयुक्राम्‌ (भर वाम्‌) ढाम्‌ ( भूमिम्‌ ) श्राश्चयभूताम्‌ ( पृथिवीम्‌ ) विस्तृताम्‌ ( इन्द्रगुप्ताम्‌ ) इन्द्रः परमैभ्वर्यव दुभिः शरैः पाक्लिताम्‌ ( अजीत: ) ज्या वयोहानो- क्त, नत्वादे- शाभावः ्रजीनः | श्रजीणंः। जराहीनः ( श्रहतः ) श्रमारितः ( श्रप्ततः ) क्षत- रहितः बणादिशल्यः ( भध्यष्डाम्‌ ) श्रधिक्तवानस्मि ( पएूथितीम्‌ ) चषधाम्‌ ( अम्‌ ) मच्चष्यः॥

( २६८० ) अथर्व वेदभाष्ये | ६७४ ]

व्याः पर्जन्यः पितास ङं नः पिपतु ९२-१ यत्‌ तै सध्य॑स्‌ पृथिवि 1 प्रत्‌ 1 च॒ नभ्यंस्‌ याः तै ऊजेः तन्वः ! सम्‌-वभूवुः ताह न॒ः! चेदि? छि! नः+ पुरब सुप्ता श्रूलिः पुतः श्चहय्‌ ,पुथिज्याः पन्यं : 1 पिता खः 1 इतिं नः \ पिपुत्‌, ९२१ साषार्थ- { पृथिवि ) हे परथिवी } (यत्‌) जो (ते) तेरा ( मध्यम्‌) च्याययुक्त कमं है, ( ) श्नौर ( यत्‌ ) जो ( नभ्यम्‌ ) क्षनियो का हितकारी कमं है, श्नौर ( याः) जो ( ऊर्जः) बल्ल दायक [ छन्न छादि ] पदार्थं ( ते ) वेरे{( तन्वः ) श्वसैर से ( संदभूठुः ) उत्पन्न हये हं! ( त्ताचु) उन सव [ क्ियाश्रो ] केमीतर ( नः) हमको ( थेहि) तू रख, श्रौर ( नः) दम ( चभि ) सव श्रोर से ( पचस्व ) शुद्ध कर, ( भूमिः) भूमि (मातां) [ मेरी ] माता [ तुल्य है ], ( अहम्‌ ) मै ( पृथिव्याः) पृथिवी के { पुनः ) पुच्र [ नरक, महाकष् से वचाने वाला है ] ( पर्जन्यः ) सींचने बोला मेध ( पिता) [ मेरे ] पिता [ वुस्य पालक है }, (सः) चह (उ) सी (नः) हमे ( पिपत. ) पूणं करे १२॥ भावार्थ-- मनुष्य नीततिविद्या, भूगर्भ विद्या, -मूतल चिद्या श्रौर मेघ विद्या श्रादि मे निपुण होकर पृथिची का उपकारी अर सुखदायक चना॥१२॥

१२--( यत्‌ ) ( ते ) तव ({ मध्यम्‌ ) ्रघ्न.यादयश्च 1 उ० ! ११२ मन ज्ञाने-यक्‌ न्यायक्षमं ( पृथिवि ) हे भूमे ( यत्‌ ) (च } ( नभ्यम्‌ ) उगवादिभ्यो यत्‌ पा०५।१! २1 नाभि-यत्‌) नामि नमं चाति नभादेशगनासिभ्यः्तत्रियेस्यो दितं क्म ! (याः) ( ते) तव (-ऊजः ) वक्लवर्धका अन्नादिपद्‌ार्थाः ( तन्वः ) शरीरात्‌ { संवभूद्ुः ) उर्पन्ना वभूद्ुः ( तचा ) सर्वाखु क्रियासु ( नः ) श्स्मान्‌ (धेहि ) धर ({ रमि ) सर्वतः ( नः) अस्मान. ( पवस्व ) शोधय {( माता) जनी यथा ( यूमिः ) ( पुः ) प्न ०.९1 ११ ५. पुन्नरकं ततसरायते-निरु० २1 १९१1 दुःलादत्तकः ( अहम्‌ ) ( पृथिष्याः ) ( पञन्यः ) सेचको मेघः(पिता )

जनको यथा पालकः (सः) (उ) (नः) अस्मान्‌ ( पिपदु ) प्र-पाल्िनः पएूरणएयोः ! पूरयतु

भ०९[ ४७४ ] द्द कारस्‌ ९२॥ ( २,६९९ )

यस्यां वेदि परिगहन्ति भरुस्ां यस्याँ य॒ज्ञं तन्वते विश्वकः माणः यस्यां सौीयन्ते स्वरवः पथिव्यामूर्ध्वाः शक्रा प्रौहु- त्याः परस्तात्‌ सा नो भरूमिर्वधंय॒ड्‌ वधं माना १३

यस्यास्‌ वेदिम्‌ परि-गृहन्ति ! पम्या्‌ यस्याम्‌ य॒ज्ञम्‌ तन्वते! विगश्व-कर्माणः यस्यास्‌ सोयन्तं स्वर॑वः पथिव्यास्‌। घ्वाः। शक्राः। श्रा-हुत्याः। परस्तात्‌ सा। नः भरूमिः वर्ध्‌थत्‌ वधेमाना॥ ९३॥

भाषाय-( यस्याम्‌ भूभ्याम्‌ ) जिस भूमि पर( विश्वकर्माणः ) विश्वकमां [ सथ कामो मे चतुर ] ल्लोग ( वेदिम्‌) वेदी [ यक्तस्थान] फो ( परिश्रहम्ति ) घेर लेते है, ( यस्याम्‌) जिस [ भूमि ] पर (यक्षम्‌ ) यक्ष [ देवपूज्ञा, संगतिकरण शौर दान भ्यवदार ] फो ( तम्वते ) कफैलाति ( यस्याम्‌ पृथिव्याम्‌ ) जिस पृथिवी पर ( उर्ध्वः ) चे श्नौर ( शुक्राः ) उजले ( स्वरवः ) विजय स्तम्भ ( भाहत्याः ) आहति [ पूरणांइति, यक्षपतिं ] से ( पुर. स्तात्‌ ) पिते ( मीयन्ते ) गाद जाते दै (सां ) वह ( घधंमाना ) बद्ती हयी . (भूमिः ) भूमि (नः) हम ( वधेयत्‌ ) वद्भाती रहे १३॥ भावार्थ--मनुष्यौ को उचित है कि कर्मङुशल लोगौ के समान श्रपना कत्तव्य पूरा करके संसार में दद्‌ कीतिं स्थापित करे १३॥ यानो द्भष॑त्‌ पुथिवि यः पृ तन्याह्‌ यऽसिदाखान्मनसा था वधेन' तं नें भरम रन्धय प्करुत्वरि ९४

१३--( यस्याम्‌) ( वेदिम्‌ ) परिस्छृतां यक्ञमूमिम्‌ ( परिशहन्ति परितः सीदन्ति ( भूम्याम्‌ ) ( यश्याम्‌ ) ( यज्ञम्‌ ) देवपूजासंगत्तिकरणएदान- व्यवहारम्‌ ( तन्धते ) विस्तोरयन्ति ( विश्वक्मांणः ) स्वकमंकुशलाः (यस्याम्‌) ( मीयन्ते ) मिज प्रक्तेपणे निक्तिप्यन्ते ( पृथिव्याम्‌ ) ( ऊर्वः ) उन्नता

( क्राः ) शङ्खाः ( श्राहुत्याः ) पृणंयज्ञादित्यथैः ( पुरस्तात्‌) प्रे (सा) ( नः ) ्नस्मान्‌ ( भृमिः ) ( वधत्‌ ) चधंयेद्‌ ( चधंमाना ) बद्धं गच्छम्ती

( २,६६२ ) अयर्वर्वेदभाष्ये (० [ ४० )

यः। न्‌: द्भषत्‌ पुथिवि। यः! पत॒न्यात्‌ ।यः। श्नि-

दाखत्‌ मनसा\य तसू 1 न्‌:। भूमे. रन्धय्‌ पृष्‌ -कुल्वरि ९४

भाषार्थ-( पृथिवि ) हे पृथिवी | (यः) जो [दु] (नः) हमसे ( डषत्‌ ) वैर करे, ( यः ) जो ( पतन्यात्‌.) सेना चद्व, ( यः ) जो ( मनस) मनसे, (यः) जो ( वधेन ) मारू हथियार से (अभिद्ास्ात्‌) सतवे { पुब॑कृत्वरि ) दे थेष्ठो के लिये काम करने वाली ( भूमे ) भूमि! (तम) उस को (नः) हमारे लिये ( रन्धय ) नाश कर १४॥

भावायं-जो मलुष्य धमं से सत्कार पू्॑क पृथिवी की रत्ताकरतेदं ते शवरश्चौ को नाश कर सकते हँ १४॥

त्वज्जातारूत्वयि चरन्ति म्यारत्वं बिभर्षि द्व षद्ुरूत्वं चतु - ष्पदः 1 तवेमे पृथिवि पञ्च॑ मानवा वेभ्यो च्येातिरमृतं, मत्येभ्य उद्यनत्सूयै ररिममिंरातनेतिं ९५ त्वत्‌ जाताः स्वयिं ! चरन्ति 1 मत्यः 1 तवस्‌ ! विभषि दि पदः त्वम्‌ चतु"-पदः तवं इभे पथिलि। पञ्च'। मानवाः येभ्यः ज्योतिः! स्मृतम्‌ सत्यभ्यः 1 उत्‌-यस्‌ सयः रुश्मि-भिः सखा-तनेाति ९५

भाषाय--( स्वत्‌) वु्खे (जाताः) उत्पन्न इये ( मस्याः) मडेष्य

१७--( यः ) दुष्ट : ( नः ) अस्मान्‌ { देषत्‌ ) शचून्‌ जानीयात्‌ (पथिवि )

( यः ) ( पृतन्यात्‌ ) अ० ६। ७५1 सेनामात्मन इच्छेत्‌ ( यः ) शः (अभि. .

दासात्‌ ) ५।६। १०। दास बधे- लेट्‌ हिंस्यात्‌ ( मनल्लां ) चित्तेन (यः)

( वधेन ) घातकेनायुधेन ( तम्‌ ) ( नः ) श्रस्मभ्यम्‌ (रन्धय ) अ० २२। १।

नाश्य (पू वंदृत्वरि ) शीडकुशिदि० ! उ० 1 ११४ पव + कसोतेः-कनिप्‌। लनो पा०४। १} ७। डीन्रोफौ पूर्वेभ्यः धेषठपुरषेभ्यः कम॑ङुशले

५--( त्रस्‌ ) तन श्कीशात्‌ ( जात्ताः ) उत्पन्नाः (रंचयि ) (चरन्ति)

९०१९४०४] द्वादशं काण्डम्‌ १२ ( २,६६३ )

0 (त्थपरि) तुकपर८( चरन्ति) चनते ह, (त्वम्‌ ) तू ( द्विपदः) दो पायौ को शरोर (स्वम्‌) तू (चदुष्पदः) चौपायें को (पिमर्िं) श्राधय देती &ै। ( पृथिवि ) हे पथिषी | ( इमे ) यह सथ ( पञ्च ) पांच [ पृथिवी, जल, तेज, वायु श्रौर ञ्ाकाश, इन पांच से ] संब्ध वाले ( मानवाः) मन्य ( तव ) तेरे है, ( येभ्यः मर्येभ्यः ) जिन मचुष्यौ के किये ( उद्यन्‌ ) उद्य होता श्रा (सूः) सू (श्रद्रनम्‌ ) विना मरी इई ( ज्योततिः) ज्योति ( रिमिभिः) श्रप्नीकित्णौ से ( श्राननोति ) सव श्रोर फैलाता है १५॥

भावार्थ-जो मनुष्य पृथिवी पर उत्पन्न होकर उथ्ोग करते है वे सव भ्र॑णियो शी रता करे सूयं कौ पुष्टिकारक फिरणौ से इष्टि श्रादि द्वारा सदा छ्रानन्द्‌ पाते हे १५॥ तानैः परजाः सं दुंहतां सम्या वुग्चौ मघु' पृथिवि धेहि महम्‌ ९६ ताः नः म्ज-जाः सम्‌ दुहुताम्‌ समू-य्राः वाचः। मधु' पृथिवि धेहि महाम्‌ ९६॥

भाषायं-( समग्राः ) सव (ताः) वे ( प्रजाः) प्रजाये (नः) हमे ( सम्‌ दुह्‌ताम्‌ ) मिलकर भरपृर कर, ( पृथिवि ) हे परथिवी ¡ ( वाचः ) वाणी की (मधु) मधुरता ( मह्यम्‌ ) मुभ को ( धेहि ) दे १६॥

भावार्थ-जो मनुष्य वाणी की मधुरता श्र्थात्‌ सल्य वचन श्रादि से सथ प्राशिथौ से उपकारलेतेरहै, वे एुख पाते है १६॥

गच्छन्ति ( मस्याः ) मचुप्याः ( त्वम्‌ ) ( विभर्षि ) धरसि ( द्विपदः ) पाददढयो- पेतान्‌. ( त्वम्‌ ) ( चतुष्पदः } पादचतष्टयोपेतान्‌ ( तव ) ( शमे ) ( एृथिषि ) ( पञ्च मानवाः ) ३।२१।५। पञ्चभूतस्तम्बन्धिनो मचुप्याः ( येभ्यः ) ( ज्योतिः) तेजः ( अरषतम्‌ ) ्रनष्टम्‌ ( मलयभ्यः ) मचुष्येभ्यः ( उघन्‌ ) उद्भ- चन्‌ ( सूयः ) ( रश्मिभि; ) किस्य; ( भातनेति ) समन्ताद विस्तारयति

१६--( ताः) (नः) अस्मान्‌ ( प्रजाः ) प्रारिनः (सम्‌ ) मित्वा ( दुहताम्‌ ) प्रपुरयन्तु ( ससग्राः ) खमस्ताः ( वाचः ) वचनस्य ( मशु ) माधु. यम्‌ ( एथिषि ) ( भेह ) देहि ( महाम्‌ )

( २१६८४ ) सयर्ववेदभाष्ये सु० [ ४७४ |

विग्वस्व सातरमेषंधीनां ध्रुवां परमि पृथिवी धमेणा धृताभ्‌ शिवां स्यौनमन्‌, चरेम विश्वहा १७

वि्व-रूवैस्‌ सतस्‌ श्नोषंधौनास्‌ भ्रुवाम्‌ भूमिस्‌ पथिषीस्‌ धमैणा धतास्‌ शिवास्‌ स्योनाम्‌ अन < ~ < = ~ "9 चरे सु विश्वह ९७

माषार्थ-( चिश्वस्वम्‌ ) सव उत्पन्नकरने वाली, { श्रोषधीनम्‌ ) श्रोषधियौ [ अन्न समलता रादि ] की ( मातरम्‌ ) माता, (भूचाम्‌) दद, ( भूमिम्‌ ) आश्रय स्थान, ( धमा ) धमे [ धरन येभ्य स्वभाव वा कमं ] से ( धृताम्‌ ) धारण की गयी, ( शिवाम्‌ ) कल्याणी, ( स्योनाम्‌ ) मनभावनी ( पृथिवीम्‌ श्नु ) पृथिवी के पचे ( विश्वहा ) अनेक प्रकार (चरेम) हम चले १७

भावा्थं- मनुष्य धर्म॑ के साथ भूमि का शासन कर्के समस्त उत्तम ,शुशौ नौर पदार्था" से सुख प्रा करे १७॥

महत्‌ स॒धस्थे महती वंश्रविय सहास वेगं रुजय्‌ं वँ पय्‌ ष्टे (4 [|

हांस्त्ेन्द्र। -रक्षत्यमंमादस्‌ सा ने† शरूमे. राचयु हिर॑ण्य

स्थेवसं दशि साने द्धिष्लत कश्चन ५९८॥

महत्‌ खध-स्य॑स्‌ महतौ बभूविथ महान्‌ वेगै;

(4 9, | खजय्‌.: \ वे पयु : ते महान्‌ 1 त्वा 1 इन्द्रः! रक्षति श्रम

९७--( विश्वश्वम्‌ ) पूडः भ्राणिगभेविमोचने -किवप्‌ सवस्य भ्रखचि.- नीम्‌, उत्पीदयि्ीम्‌ ( मोतरम्‌ ) जननीम्‌ ( श्रोषधीनाम्‌ ) अन्नसामलतादी- नाम्‌ (भ्‌ वाम्‌ ) उदाम्‌ ( भूमिम्‌ ) निवासस्थानम्‌ ( पृथिवीम्‌ ) ( धर्म॑णा ) धरणौयेन स्वभावेन कमणा चा ( धतम्‌ ) धारिताम्‌ ( शिवाम्‌ ) कल्याणीम्‌ ( स्पे(नमम्‌.) सुलद्‌मम्‌ ( श्रु ) श्रुत्य ( चरेम ) गच्छेम ( विश्वहा ) विश्व धा 1 अतेकप्रकारेण

०९ [ ४७४.] द्वादशं काण्डम्‌ ९२॥ ( २,६८५ )

[भ

मादम्‌ ॥षा!न.:। भम। रोचय हिस््यस्य-इष ।. सुसू- दरि) मा) नः। द्विक्षत.। कः चन.॥.१८॥

भाषार्थः मती ) ची होकर तू ( मत्‌ ) षडा ( सधस्थम्‌ ) सहः चाल (वभूविथ)ुयी हैः ( ते ) तेरा (वेगः) षेग, ( पजथुः ) चलना भौर (बेवथुः ) हिक्तेना ( मन्‌) बड़ा दै! ( महान्‌ ) षडा ( द्रः) श्द्र [षडे पेश्वयं वाला मुष्य ] ( शप्रेमादम्‌ } धिना चूक (्वा- रक्षति}. तेरी स्का करतादहै।(सा)से तू, (भूमे) हे मृमि| (नः) हम ( हिरण्यस्य ध्व.) छवणं के जैकते.( संदशिः)- ईप मे-( प्र रोचय ) -परकाशमान करदे, ( कश्वन) कोैमी (नः) हमसे (मा दित्तत्‌) देष करे॥ १८॥

भावा्थ--पुरषार्थी पुरुष श्रे प्रयक्ञौ कं साथ ` पृथिधी पर सवपते मिलकर चिदया द्वारा षणं रादि धन प्राप्त करफे तेजस्वी होते है १८॥ - शिम स्थामेषधोष्वश्चिमापा विधत्य्चिरभ्मसु। - श्रशिरन्तः पुरुषेष्‌ गोष्वर्वष्वद्ययः ९८ चिः शस्यम्‌ सओषधौषु पमस्‌ प्रापः। विभति" स्मचिः। अरश्म-सु॥ श्रि: श्नन्तः। पुरुषेषु गोषु प्रश्वेषु श्रयः ९८६

भाषाय-( भूम्याम्‌ ) भूमि में [ षर्तमान ] ( श्र्चिः) चनि [ताप] ^ श्रोषधीषु ) श्नोषधियौ [ श्र सोमलता शादि ] मेहे, ( भग्नम्‌ ) भग्निको

१८--( महत्‌ ) षृशत्‌ ( सधस्थम्‌ ) सहस्थानम्‌ ( मदी ) धिशाल्ा ( बभूविथ ) (महान्‌ ) विपुलः ( वेगः ) जवः (एजशुः) रिवतोऽधुच् पा०.६। ३।८९। एज्‌ कम्पने-्रथुच्‌, चाहुलक्ात्‌ चेष्टाव्यवष्टारः वेपथुः) वेष कम्प ने-श्रधुच्‌ कम्पः ( ते ) तथ ( महान्‌ ) पूजनीयः ( त्वा ) रेवाम्‌ (शश्रः) ेश्वर्थवान्‌ पुरषः ( रत्ति ) - पालयति (-श्रप्रमादम्‌ } सावधानम्‌ (सा) सा त्वम्‌ (नः ) अस्मान्‌ ( भूमे.) (प्र) प्रकर्षण (रोचय ) प्रकाशय: { दिरणयस्य दव ) सुवशंस्य यथा { संदशि ) संदशेने स्वरूपे( नः ) अस्मान्‌ ' ( मा द्वित )

दिष्यात्‌ ( कश्चन ) केऽपि

६७-( अग्निः) श्र ग्नितांपः ( भूस्याम्‌ ) पृथिष्याम्‌ { भोषधीघु ). भक्नसो

मलतादिषु(श्रग्निम्‌ः) तापम्‌ ( श्राप) जलानि, (बिश्चति )धारयन्तिः(.अष्निः )

ष्ट

( २६०६ ) | अयर्ववेदभाष्ये सु०.९'[ ४३४ |

= ~न + न~ ~ + = न~ -* ------~ ~~~

(आपः) जल ( विभ्रति ) धारण करते है, ( श्रगनिः ) रग्नि (श्रष्मसु) पस्थ [घा मेघो ] मेह ( श्रग्निः) श्रमग्नि ( पुरुषेषु श्नन्तः ` ) पुरुषौ के भीतर है ( अग्नयः ) श्रग्नि [के ताप] ( गोषु) गौश्नौ में श्नोर ( भश्वेषु ) घोड़ो मे है १६॥

- भावाथ-शेष्वर नियम से पएथिवी में कांञअग्निताप श्रन्न चादि पदार्था प्राणियो मे प्रवेश करके उन में वदने तथा पुष्ट होने का सामथ्यं देता-है 1 €! यष्टा पर श्रथ्वं० २) २१ १,२ भी देखो

अधिर्दिव जा त॑ंपत्यगनेरदु व्योमैर्‌ न्तरिक्षस्‌ श्रनि मतास इन्धते हंव्य॒वांह चुत्वम्‌ २०॥ (२) छचचिः। दिवः श्रा त॒पति श्चग्नेः। द्‌ वस्य उस्‌ शचन्तरिक्षस्‌ ॥-श्चधिम्‌ 1 मतेासः -दन्धते --इव्यु-वोहस्‌ चतत-भरियस्‌ २० (२.)

भावाय-( भरन्निः) भ्रननि[ लोप ] ( दिवः) सुर्यं से (भा सपति) भाकर तपतां है, ( देवस्थ ) कामना योग्य ( अग्नेः ) ` अग्निका (उख) चौडा ( श्च न्तरिक्षम्‌ ) अन्तरित्त;| श्रवकाश ] हे। (- हव्यवाहम्‌ ) हव्य [ आडुति फे

व्य धवा नाड्यौ मेश्रन्नकेरस ] काले चलने वाले, ¦ धृतथियम्‌ ) धृत के चाहने वते ( अग्निम्‌) श्रग्निको ( मतांसः) मञुष्य लोग( इन्धते) प्रकाश (मानेःकर्ते हें २०॥

भावाय--वह अग्नि तापं भूमिम [ म० १६ ] सूय से भाता है, तथा आकाश के पदार्थौ में पवेश करके उन्हे बल युक्त करता है उस श्रगि का मचुष्य भादि पराणी भोजन श्रादि. से शरीर मे बदा कर पुष्ट न्नर घलवान्‌ होते

1 तथा उखी-श्रग्नि को हव्य द्रग्यौ.से प्रज्वलित करके मदुष्य चायु, जक नौर अन्न के। शुद्धः निदोष करते है २०

( श्रश्मञ्ख ) श्र० १।२।२। पाषोषु मेघेषु-निघ० १। १० ( श्रम्निः) ` ( श्नन्तः ) मध्ये ( पुरेषु ) ( गोषु ) { च्रश्वेषु ) ( श््मयः ) भ्रितापाः॥ २०-( श्रष्निः ) तापः ( दिवः ) सूर्यात्‌ (आ ) आगत्य ( तपति ) दति ( श्रम्नेः ) तपस्य ( देवस्य ) कमनीयस्य ( उरु ) -विस्तृतम्‌ ( श्रन्तरिष्तम्‌ ) अवकाशः ` ( श्रम्निम्‌ ) ( मतांखः ›) मलष्याः ( इन्धते ) दीपयन्ति ( हव्यवाहम) होमद्रव्यस्य भक्षरसस्य घा वाहकम्‌ { चतधरियम्‌ ) धृतेच्छुकम्‌

९०१९ ४७४.] द्वादशं काडस्‌.॥ ९२॥ ( २,६९७ )

~ - ~ - -~- ~~

घर र्निवांसाःपुयिश्यं सितु सित्वपौमन्त्‌ संशितं माः कुणोतुः।२९ प्रग्नि-व।साः प॒यिवौ श्चसित्‌-च्रूः त्विधि-मन्तस्‌ समू- शितम्‌ सा.\ कणोत २९१

भाषाय-( अ्नग्िनिवासाः ) भगिनि के साथ निवास करने घाती [अथवा श्रभ्नि के वस्र वाली ] ( अक्षितक्ुः ) .बन्धन रहित कमं के-जताने षाशी ( ध्थिषी ) पृथिवी ( मा ) मुस फो ( रिवप्रिमन्तम्‌ ) तेजस्वौ श्नौर ( संशितम्‌ ) तीर्ण [ फरतीला ] ( रृणेातु ) करे २१॥

भाषार्थ- जसे भूमि भीतर भ्रौर बाहिर घुथं ताप से ल्त पाकर श्रपने मागं पर वेरोक चलती रहती है, वैसे ही मनुभ्य मीतसी भौर बाहिरी धक्त घटा कर पुमागं मे य॒ढुता चले २१॥ प्या दे वेभ्य ददति यत्नं हव्यमरफूतस्‌। भस्यां सन्या जीवन्ति सवधयत्नेन सत्याः सा नौ भूमिः याणमायु' दात जरदष्टिं मा पथिवी कू'ोतु २२॥

भम्याम्‌ दे वेभ्यः ददु ति यन्न्‌ हव्यम्‌ प्ररसु-कतस्‌ शम्याम्‌ मनष्याः जीवन्ति स्वधयां अन्नेन मत्याः सा! नः श्रूमिः। प्राणम्‌ प्रायुः। दधात्‌ जुरतु-खष्टिम्‌ मा पृथिवी कणोत २२

भाषायं-( भूम्याम्‌ ) भूमि पर (देवेभ्यः) उत्तम गुणौ के लिये ( मजुम्याः ) भजुप्य ( हभ्यम्‌ ) देने तेने योग्य, ( श्रृतम्‌ ) शोभित करे घाले

२१-( भग्नर्वास्ाः ) घसेित्‌ 1 ४। ११८। घस निवासे भाच्छादने च-श्रघुन्‌ 1 श्रभ्निना तापेन सहं निवासो यस्याः सा यद्वा, तापो वस्रं यश्या सा ( पृथिवी ) { भ्रति तञ ) पिजञ्‌ बन्धने-क्त + अन्दुदस्पूजम्बू उ० १।8३। क्षो विज्ञापने-कू श्रशद्धः कमं क्ञापयति योधयति नियोजयति वा सा ( त्विषिम्‌ स्तम्‌ ) दीष्िमन्तम्‌ (संशितम्‌ ) तीदणीरृतम्‌ ( मा ) माम्‌ ( शोत ) करोतु

२२-( भूम्याम्‌ ) ( देषेश्यः ) कमनीयगुणानां प्राये ( ददति ) प्रयश्ड न्ति (यजनम्‌ ) संगतिष्यवहारम्‌ ( द्यम्‌ )द्ानादनयोग्यम्‌(अरङृतम्‌ ) रलम +

( २,६९८ ) सयर्ववदसाष्यै - ` १०९ { ४७४ |

धा